उसूल बेच कर पैसा कमाना कभी घाटे का सौदा साबित नहीं होता. यह अगर केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल कर रही हैं तो यह सिर्फ उन की मां कृष्णा और बहन पल्लवी पटेल की निगाह में ही गुनाह है वरना अब लोग भूल चले हैं कि अपने दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल की सियासी और सामाजिक हैसियत किसी और से उन्नीस नहीं हुआ करती थी. बसपा संस्थापक कांशीराम के साथ अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले सोनेलाल की एक आवाज पर पूरा कुर्मी समुदाय इकट्ठा हो जाता था. सोनेलाल जातिगत भेदभाव और कट्टरपंथियों से इस हद तक नफरत करते थे कि उन्होंने बौद्ध धर्म अपना लिया था.

COMMENT