व्रत या उपवास एक धार्मिक कृत्य है जिसे करने वाला बेचारा व्रत के दौरान उस के टूट न जाने के भीषण तनाव में डूबा रहता है. व्रत का टूटना अनिष्ट माना जाता है. इस में दर्जनों वर्जनाएं होती हैं जिन का ईमानदारी से तो कोई भी पालन नहीं कर सकता. इस के बाद भी लोग व्रत करते हैं इस उम्मीद से कि भगवान अगर कहीं होगा, तो खुश हो कर कुछ दे न दे पर कभी नाखुश हुआ तो कुछ बिगाड़ेगा नहीं.

COMMENT