2014 के लोकसभा चुनाव में मध्यप्रदेश से कांग्रेस को महज 2 सीटें मिली थी, पहली थी छिंदवाड़ा जहां से कमलनाथ जीते थें और दूसरी थी गुना जिस पर से सिंधिया राजघराने के ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव को भाजपा और नरेंद्र मोदी का जादू दोनों चुनौती नहीं दे पाये थें. 2013 के विधानसभा चुनावों में भी ज्योतिरादित्य सिंधिया का दबदबा साफ साफ दिखा था तब मध्यभारत की जो अहम सीटें कांग्रेस ने जीती थीं उनमे गुना संसदीय क्षेत्र की मुंगावली और कोलारस भी थीं. इन दोनों सीटों पर अब कांग्रेसी विधायकों की मौतों के बाद 24 फरवरी को उपचुनाव हैं जिनके नतीजे 28 फरवरी को घोषित होंगे.

Tags:
COMMENT