एक पुरानी मिसाल है कि जब अपनी गलती या आलोचना का तार्किक जवाब न सूझे तो प्रश्नकर्ता के सवाल में व्याकरण की अशुद्धियां ढूंढ़ना शुरू कर दो. इस शातिर तरीके से बात गोलमोल हो जाएगी और आप जवाब देने से भी बच जाएंगे.

कुछ इसी आशय के साथ केंद्र सरकार भी 5 राज्यों के हालिया विधानसभा चुनावों के नतीजों से भले ही हताश होती नजर आई, लेकिन हार की जिम्मेदारी लेने के बजाय आरोपप्रत्यारोप का खेल खेलने लगी. किसी भी भाजपाई ने खुल कर हार नहीं स्वीकारी. जब भाजपा केंद्र में आई थी और सालों बाद उत्तर प्रदेश सरीखे राज्य जीत रही थी तब जीत का सारा श्रेय नरेंद्र मोदी ले रहे थे, पर अब हार का ठीकरा सीएम कैंडिडेट्स पर फोड़ा जा रहा है.

Tags:
COMMENT