यह सुझाव देने की हिम्मत देश में अगर कोई शख्स कर कर सकता है तो ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं कि उसका नाम मार्कन्डेय काटजू है, जो सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस और प्रेस काउंसिल के मुखिया रहे हैं. उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अपने हिंदूवादी एजेंडे को बढ़ाते हुए इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया तो उनकी आलोचना का धर्म भी सपा और कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दलों ने निभाते हुए तरह तरह की दलीलें दीं. लेकिन बड़बोले कहे जाने बाले काटजू ने तो उनका मजाक बनाते हुए उन्हें उत्तरप्रदेश के 20 शहरों की लिस्ट ही थमा दी कि अब किस शहर का नाम क्या होना चाहिए.

Tags:
COMMENT