घर बहुत बड़ा था

लेकिन दरवाजा

बहुत छोटा

धूप, हवा, बारिश

सब का आना था मना

घर में रहते थे

बस चंद लोग

एकदम अपरिचित

जैसे रेलगाड़ी के

किसी डब्बे में

बैठे हों अजनबी

खटखटाया बहुत

दरवाजा उस ने

भूखीप्यासी थी

प्यार की वह

खुला न फिर भी

वह बंद दरवाजा

तंग दिल और तंग दरवाजे

ऐसे ही तटस्थ रहते हैं

धड़ाक से बंद हो जाते हैं इन के कपाट

मात्र चाहने वालों के

दुखों की गंध से.

 

- डा. कुसुम नैपसिक

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT