रिश्तों की मर्यादा में

घुटघुट के जीना सीखा है

कुछ पल खुशियां पाने को

आंसू को पीना सीखा है

 

तानेउलाहने सुन कर हम

बने रहे हर बार अनजान

वो हमें सताते रहे

हमें न समझा कभी इनसान

 

सब के पनघट का पानी

अभी तलक न रीता है

रिश्तों की मर्यादा में

घुटघुट के जीना सीखा है

 

मन की गहराई में जो उतरे

उलझन की लहरों ने घेरा

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT