एकएक सांस का 
हिसाब मांगती है जिंदगी
कहां से शुरू, कहां खत्म 
कितनी कहानी अभी बाकी है
 
कहां रुकी, कहां थमी
सांस लेने को जिंदगी
कहकहे कहां गए
क्या बुलबुले से फूट गए
 
लुप्त हुई मुसकान कहां गई
कहां जाएगी ये जिंदगी
समझने को बेकरार मेरा शरीर
किसी उत्तर के इंतजार में आज भी .
शशि श्रीवास्तव

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT