फिल्म ‘‘अलीगढ़’’ में होमोसेक्सुअल/‘गे’ प्रोफेसर सिरास का किरदार निभा चुके अभिनेता मनोज बाजपेयी को यह पसंद नही कि वह किसी भी ‘गे’ इंसान को होमो सेक्सुअल कहे. खुद मनोज बाजपेयी कहते हैं-‘‘बचपन से भी मेरे कई समलैंगिक/ गे मेरे दोस्त रहे हैं. मैंने कभी भी ऐसे लोगों को अपने से अलग नहीं माना. सच कहूं तो मुझे होमोसेक्सुअल बोलते हुए भी परेशानी होती है. मेरी राय में हम सभी एक ही समाज में रहने वाले हैं. पर हमारी चाहते अलग अलग हैं. हमारे दुख अलग अलग हैं. अफसोस की बात यह है कि ‘गे’ लोगों के प्रति हर सरकार का रवैया एक जैसा ही रहा है. प्रजातंत्र में सबसे बड़ी गलत बात यह है कि हम वोट की राजनीति करते हैं. हम न्याय की राजनीति कभी नहीं करते. इसके अलावा हमारे देश में ‘होमोसेक्सुआलिटी’ को लेकर जो टैबू बना हुआ है, वह गलत है.

Tags:
COMMENT