उत्तर प्रदेश में अपराध हर सरकार के लिये बडा मुद्दा रहा है. भाजपा ने भी ‘कानून के राज’ के नाम पर विधानसभा का चुनाव लड़ा. मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने अपराध कम करने का पहला वादा किया था. बहुत सारे बदलाव के बाद भी जब योगी सरकार की ‘हनक’ कायम होती नहीं दिखी, तो जनता सड़कों पर उतर कर अपराध के खिलाफ आवाज बुलंद कर रही है. जनता में फैलता यह संदेश योगी सरकार के खिलाफ जा रहा है. इससे योगी की छवि को धूमिल करने की कोशिश भी हो रही है. राजधानी लखनऊ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकसभा सीट वाराणसी और कृष्ण की नगरी मथुरा सभी अपराध के दर्द से कराह रहे हैं.

COMMENT