आज लालू प्रसाद यादव जैसे नेताओं को सजा होने पर लोग इतरा रहे हैं जबकि इन हालात के असल जिम्मेदार वे खुद ही हैं. किसी ने भी ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ नेताओं व अफसरों के लिए कुछ नहीं किया. ऐसे में दोष घोटालेबाजों को क्यों दिया जाए? पढि़ए जगदीश पंवार का लेख.

COMMENT