मीडिया और बसपा का साथ कभी बहुत अच्छा नहीं रहा. मीडिया में कुछ खास चेहरों पर ही बसपा भरोसा करती है. विधानसभा चुनाव के समय बसपा ने अपने लोकल स्तर तक के नेताओं को मीडिया से दूर रहने का फरमान दिया है. बसपा सोचती है कि मीडिया में उसके पक्ष को सही तरह से नहीं रखा जाता.

बसपा प्रमुख मायावती जब प्रेस कॉंन्फ्रेंस करती हैं तो चुने गये मुद्दे पर अपनी बात रखती है. वे ज्यादातर सवालों के जवाब नहीं देती हैं. प्रदेश स्तर पर दूसरे नेता भी मीडिया में अपनी बात नहीं रखते. अभी तक बसपा के लोकल स्तर के नेता लोकल मीडिया के संपर्क में आ जाते थे. लोकल मीडिया की रिपोर्ट और जानकारी के आधार पर अधिकतर रिपोर्ट तयार होती रही है. अब बसपा ने अपने लोकल नेताओं और विधानसभा चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को भी मीडिया से दूरी बना कर रखने के लिए कहा है.

मीडिया से दूरी रखने वाली बसपा सोशल मीडिया पर पूरी तरह से सक्रिय हो

गयी है. सोशल मीडिया पर पार्टी के प्रचार में पंपलेट जारी किये गये है. बसपा के कई दूसरे नेताओं के भी सोशल मीडिया पर अपने एकांउट बन गये है. उसके जरीये यह प्रचार चल रहा है. मीडिया से दूर रहने वाली बसपा को सोशल मीडिया पर भरोसा कैसे जगा ? असल में बसपा आर उसके नेताओं को मीडिया से कोई परहेज नहीं है. बसपा नेताओं का असल परहेज मीडिया के सवालों से है. वह इन सवालों से बचने के लिये मीडिया से दूरी बना कर रखती है. कई बार बसपा नेताओे के बयान उनकी नीतियों से अलग होते हैं. ऐसे सवालों पर वह कोई जवाब नहीं देना चाहते. नापंसद सवाल पूछने वाले को विरोधी दल से मिला हुआ तक कह दिया जाता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT