लेखक-डा. दीपक कोहली

निराश, अधीर या परेशान होने पर सब से ज्यादा गुस्सा ही आता है. गुस्सा किसी भी व्यक्ति में प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है. कभीकभी गुस्सा किसी खास परिस्थिति की वजह से भी आ सकता है.
ऐसे में गुस्से पर काबू करना जरूरी है, नहीं तो इस का नकारात्मक असर पड़ सकता है. अकसर और अत्यधिक हद तक गुस्सा महसूस करना रिश्तों और एक व्यक्ति की मनोवैज्ञानिक स्थिति और जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है.

Tags:
COMMENT