रिलेशनशिप में आना हर किसी के जीवन में एक नए पड़ाव जैसा होता है जिसमे व्यक्ति किसी ऐसे व्यक्ति के साथ अपने जीवन के सुख दुःख को साझा करता है जिसे वो पसंद करता है जिससे वो प्यार करता है. जहां नए रिलेशनशिप में आना लड़का और लड़की दोनों के लिए नया और प्यारा एहसास होता है वहीं दूसरी ओर दोनों के मन में नए रिश्ते को लेकर कई तरह के डर भी पैदा होते हैं. आज हम आपसे उन्ही बातों, उन्ही डर का जिक्र करेंगे जो एक व्यक्ति के मन में नए रिलेशनशिप में आने के बाद घर करती है.

गलत करने का डर:

नए रिलेशनशिप में आने के बाद हर किसी के मन में यह ख्याल आता है कि वो जो कर रहे हैं वो सही है या गलत. नए रिलेशन में आने के बाद लोग कुछ दिनों तक ये नहीं समझ पाते की इस रिश्ते में वो खुश रह पायेंगे या इस रिश्ते से उन्हें कोई नुकसान तो नहीं होगा. ऐसे कई लोग होते हैं जिन्हें नए रिश्ते में आने के बाद इन बातों का डर सताता रहता है.

जल्दबाजी का डर:

नए रिलेशनशिप में आने के बाद कई लोगो के मन में यह डर सताता है कि कहीं उन्होंने रिश्ता बनाने में जल्दबाजी तो नहीं की है? क्या ये सही वक्त है? क्या मुझे थोड़ा समय लेना चाहिए था? नए रिलेशनशिप में आने के बाद कई लोगो के मन में इस तरह के ख्याल आते हैं. वो सोचते है की इतनी जल्दी बनाये गए रिश्ते का भविष्य सुरक्षित होगा या नहीं.

ये भी पढ़ें- जानिए, बौयफ्रेंड के किन सवालों से कतराती हैं लड़कियां

सही साथी न चुन पाने का डर:

ऐसा कई बार देखा गया है कि लोगो को रिलेशनशिप में आने के सालभर बाद ये पता चलता है कि मेरे द्वारा चुना गया लड़का या चुनी गयी लड़की मेरे लिए सही नहीं है और इस स्थिति में रिलेशनशिप टिक नहीं पाता. नए रिलेशनशिप में आये लोगो के मन में भी इस तरह के ख्याल आते हैं. कई बार लोगो को ये समझ नहीं आता की उनके द्वारा चुना गया साथी वाकई उनके लिए सही है या नहीं. इस बात का डर नए-नए रिलेशनशिप में आये लोगो के मन में ज्यादा होता है.

साथी के रिश्ता तोड़ देने का डर:

नए नए रिलेशनशिप में आने के बाद कई लोगों के मन में यह डर बैठा रहता है कि कहीं उसका पार्टनर उससे रिश्ता न तोड़ ले. ये डर उन लोगों के मामले में ज्यादा होता है जिनके अन्दर आत्मसम्मान और आत्मविश्वास की कमी होती है. ये डर उन लोगों के मन में भी ज्यादा होता हैं जिन्होंने झूठ बोलकर रिश्ता बनाया होता है.

ये सचमच में प्यार है या बस वो मुझे पसंद करता/करती है:
कई लोगों को नए रिलेशनशिप में आने के बाद इस ख्याल में डूबे रहते हैं कि उनका पार्टनर उसे सच में प्यार करता है या बस उसे पसंद करता है. ऐसे कई लोग होते हैं जो इस स्थिति में हमेशा अपने साथी के प्यार को हर पैमाने पर मापते हैं जिससे कई बार रिश्ते के टूटने की सम्भावना पैदा होती है.

ये भी पढ़ें- अच्छे संबंध और खुशी का क्या है कनैक्शन

खुद की पहचान खोने का डर:

कई लोगों के मन में रिलेशनशिप में आने के बाद ये डर सताता है कि कहीं नए रिश्ते के लिए खुद को बदलने के क्रम में अपनी पहचान ही न खो दें. बहुत से लोगों के मन में यह बात रहती है कि कहीं वो अपने साथी को इम्प्रेस करने या उसे प्रभावित करने में कहीं खुद की पहचान न खो दें.

Tags:
COMMENT