बिजनेस में औफर का सहारा आमतौर पर औफ सीजन में लिया जाता था. हर बिजनेस का एक औफ सीजन होता है. कारोबारी हमेशा से ही फेस्टिव सीजन को लेकर बहुत उत्साहित रहता है. उसे उम्मीद रहती है कि फेस्टिव सीजन में उसकी अच्छी कमाई हो जायेगी. जिससे औफ सीजन में कुछ लुभावने औफर के सहारें उसका बिजनेस चलता रहेगा. पितृपक्ष के पहले से फेस्टिवल सीजन शुरू होता है. पितृपक्ष में खरीददारी लोग कम करते हैं इसके बाद वापस खरीददारी का समय शुरू हो जाता है. पितृपक्ष के पहले गणेश उत्सव से ही फेस्टिवल माना जाता है. गणेश उत्सव में जिस बिजनेस की उम्मीद की जा रही थी वह इस बार नहीं दिखा है. गणेश उत्सव में भी बिजनेस का बढ़ाने के लिये औफर का सहारा लेना पडा. फैशन डिजाइनिंग स्टोर चलाने वाली नेहा दीप्ति कहती हैं ‘इस बार औफर के सहारे ही पूरा समय गुजर रहा है. बड़े- बड़े स्टोर में भी औफर लगा रहा. ऐसे में अब फेस्टिवल सीजन में भी औफर का ही सहारा लग रहा है.

Tags:
COMMENT