लोग तो 1 बच्चा संभाल नहीं पाते आप 3 को कैसे संभालती हैं?

पुराने दिन याद न दिलाओ तो अच्छा ही है. मैं ने तीनों को संभालने के लिए रातें जागजाग कर बिताई हैं. जब बेटे को चुप कराती थी तो बेटी शुरू हो जाती थी. जब ये दोनों सो जाते थे तो दूसरी बेटी रोना शुरू कर देती थी.

इतनी व्यस्त रहने के बाद भी बच्चों को समय दे पाती हैं?

कोशिश करती हूं कि काम के साथसाथ उन्हें भी समय दे सकूं. जब तीनों छोटे थे तो मैं चुपचाप घर से निकल जाती थी, लेकिन अब जैसे ही मैं ड्रैसिंगटेबल के सामने खड़ी होती हूं तो तीनों एकसाथ पूछते हैं कि कहां जा रही हैं? कब आएंगी?

क्या ऐसा होता है कि एक रोता है तो उस का जुड़वां भी रोता है?

ऐसा फिल्मों में होता है. मेरे तीनों बच्चों के चेहरे और स्वभाव अलगअलग हैं. बेटा शांत स्वभाव का है तो छोटी बेटी बड़ी बातूनी है और बड़ी को सब से मतलब रहता है, वह मेरी क्लास लेती रहती है.

तीनों में छोटेबड़े का निर्धारण कैसे किया?

तीनों में 1-1 मिनट का अंतर है. जिस का जन्म सब से पहले हुआ वह बड़ा हो गया और जो सब से बाद में वह सब से छोटा. उन तीनों में भी छोटेबड़े को ले कर लड़ाई होती रहती है.

शिरीष से मिलने के बाद सब से बड़ी उपलब्धि?

शादी के पहले इतनी मोटी नहीं थी. अब ज्यादा हो गई हूं. मेरे बच्चे मेरी सब से बड़ी उपलब्धि हैं, क्योंकि ये बिना शादी के तो मिल नहीं सकते थे.

इतने सारे कामों के लिए ऐनर्जी कहां से लाती हैं?

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT