अगर आप अपने साथी को अपने दोस्तों से मिलाने वाली हैं तो थोड़ा तनाव और चिंता होना तो आम बात है. आप सोचने लगती हैं कि आपके दोस्त आपके साथी को पसंद करेंगे या नहीं, आपका पार्टनर आपके दोस्तों के साथ सहज महसूस करेगा या नहीं, वो एक-दूसरे को पसंद करेंगे या नहीं और कोई गड़बड़ तो नहीं होगी. ये सभी बातें आपको चिंता में डाल सकती हैं. अगर आप भी अपने जीवन के स्पेशल पर्सन को अपने दोस्तों से मिलाने वाली हैं तो ये टिप्स आपके काम आ सकते हैं.

दोस्तों से पहले ही बात कर लें – अपने दोस्तों को अपने पार्टनर के बारे में थोड़ी जानकारी दे दें ताकि वो उससे मिलने के बाद सहज महसूस करें. वह क्या करता है, कौन है, उसे क्या पसंद है, क्या नापसंद आदि बातें अगर वो पहले ही जान लेंगे तो आपके पार्टनर से मिलते वक्त उन्हें अजीब महसूस नहीं होगा और आप इस मुलाकात को आसान बना पाएंगी.

सही समय चुनें – अपने साथी को अपने दोस्तों से मिलाने के लिए सही समय का चुनाव सबसे जरुरी है. इस बारे में एक बार सोच लें कि क्या इस फैसले को लेकर पूरी तरह तैयार है या नहीं और केवल आप ही नहीं बल्कि आपका साथी भी इस कदम के लिए तैयार है या नहीं.

सही जगह चुनें – बेहतर होगा कि आप इस मुलाकात को अनौपचारिक ना बनाएं और किसी बड़े सेलिब्रेशन की तरह ना समझें. इस मुलाकात को लेकर ज्यादा तनाव या चिंता में ना रहें. किसी सामान्य जगह का चुनाव करें. अगर बात करते वक्त सवाल ज्यादा हो जाएं या फिर बातें उलझने लगें तो किसी ऐसे विषय को उठाएं जिसमें दोनों पक्ष बात करने में दिलचस्पी रखते हो.

परेशानी वाली बातों को अवौइड करें – अगर आपको लगता है कि आपके दोस्तों की कुछ बातें आपके पार्टनर को असहज कर सकती हैं तो उन्हें पहले ही ऐसे किसी भी विषय पर बात करने से मना कर दें. ऐसे किसी भी विषय पर बातचीत ना करें जिससे दोनों पक्ष यानी आपके दोस्त और आपका पार्टनर परेशान हो जाए.

बात करने के लिए कोई कौमन टौपिक चुनें – आप दोनों पक्षों के बीच में एक ब्रिज की तरह है. आप अपने दोस्तों और अपने पार्टनर दोनों के बारे में अच्छे से जानते हैं और उन्हें समझते भी हैं. इसलिये आप पहले से कुछ कौमन टौपिक्स चुन सकते हैं जिन पर आपके दोस्त और आपका साथी दोनों ही बात कर सकें.

Tags:
COMMENT