इस में कोई संदेह नहीं है कि त्योहारी सीजन सेल के दौरान आप को अच्छी डील्स मिल सकती हैं. लेकिन इस के लिए आप को स्मार्ट होने की जरूरत है.

कीमतों की तुलना जरूरी : खरीदारी करते समय वस्तुओं की कीमतों की तुलना जरूर करें. कई बार ऐसा होता है कि नौन-सेल सीजन के मुकाबले त्योहारी सीजन सेल के दौरान कीमतें अधिक होती हैं.

नई वस्तुओं पर छूट नहीं : इस दौरान नए लौंच सामानों पर छूट मुश्किल से मिलती है. जैसे फ्लिपकार्ट पर एप्पल आईफोन सीरीज पर छूट उपलब्ध होगी, लेकिन इस में नए लौंच किए गए आईफोन-11 सीरीज शामिल नहीं हैं.

कैशबैक औफर : इन फैस्टिव सेल में आप को कई प्रोडक्ट्स पर कैशबैक औफर भी दिया जाएगा. अगर आप किसी खास बैंक के कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आप को किसी न किसी ईकौमर्स साइट पर कैशबैक का औफर मिल ही जाएगा. यह कैशबैक 5 फीसदी से ले कर 10 फीसदी तक होता है.

ये भी पढ़ें- DIWALI 2019: आओ मनाएं हरी भरी दीवाली

ऐसे में अगर आप 10,000 रुपए का स्मार्टफोन खरीदते हैं तो आप को 500 या 1,000 रुपए तक का मैक्सिमम कैशबैक औफर किया जाता है.

वहीं, कुछ स्मार्टफोंस पर आप को एक्सचेंज औफर भी दिया जाता है यानी कि आप अपने पुराने स्मार्टफोन को एक्सचेंज करा सकते हैं. अगर आप किसी कंपनी के नए स्मार्टफोन को खरीदना चाहते हैं तो अपने पुराने मौडल को एक्सचेंज करा कर डिस्काउंट ले सकते हैं. हालांकि, फैशन प्रोडक्ट्स पर आप को यह सुविधा नहीं मिलेगी. कुछ होम अप्लायंसेज पर भी एक्सचेंज औफर दिया जाता है.

कैशऔन डिलीवरी औफर: खरीदारी करते समय औफर में कैशऔन डिलीवरी विकल्प पर जरूर ध्यान दें.

नोकौस्ट ईएमआई : अगर आप क्रैडिट कार्ड धारक हैं तो आप को नोकौस्ट ईएमआई सम झ में आ रहा होगा. नोकौस्ट ईएमआई का मतलब यह होता है कि आप को कोई प्रोडक्ट इंस्टौलमैंट पर मिल जाएगा और उस पर कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं लिया जाएगा. यानी कि आप को मूल कीमत में सामान बिना किसी अतिरिक्त ब्याज के इंस्टौलमैंट पर मिल जाएगा. हालांकि, यह प्रोडक्ट ब्रैंड, ईकौमर्स कंपनी और बैंकिंग सर्विस प्रोवाइडर पर निर्भर करता है कि किस प्रोडक्ट पर नोकौस्ट ईएमआई औफर किया जा रहा है और किस पर नहीं.

गिफ्ट कार्ड्स : अगर आप लगातार औनलाइन शौपिंग करते रहते हैं तो आप को गिफ्ट कार्ड के बारे में जरूर पता होगा. गिफ्ट कार्ड्स या गिफ्ट वाउचर ग्राहकों को शौपिंग करने के एवज में दिया जाता है. अगर आप उक्त राशि की शौपिंग करते हैं तो आप को कुछ फीसदी की राशि का गिफ्ट वाउचर दिया जाता है. इस वाउचर का इस्तेमाल आप अगली औनलाइन शौपिंग में कर सकते हैं. इन गिफ्ट वाउचर्स को या तो आप उस वैबसाइट पर रिडीम कर सकते हैं या फिर आप पार्टनर्स स्टोर्स पर रिडीम कर सकते हैं. इन वाउचर्स को कैसे इस्तेमाल करना है, यह ईकौमर्स कंपनियां इन वाउचर्स पर मैंशन करती हैं. साथ ही साथ कब तक इन वाउचर्स का इस्तेमाल किया जा सकता है, यह भी दर्ज होता है.

ये भी पढ़ें- दीवाली 2019 : और्गेनिक प्रोडक्ट्स के साथ इस दीवाली को बनाएं टौक्सिन फ्री

रिटर्न और एक्सचेंज पौलिसी : ईकौमर्स प्लेटफौर्म या विक्रेता की रिटर्न और एक्सचेंज पौलिसी अलगअलग होती है. इसलिए खरीदने से पूर्व नियम और शर्तें ध्यान से पढ़ें.

बैंकों के लोन औफर्स : बैंक भी इस मौके को भुनाने में पीछे नहीं रहते हैं. दशहरा की शुरुआत के साथ ही लोग नया घर, कार, ज्वैलरी और अन्य जरूरत का सामान खरीदने लगते हैं. अगर आप ने भी इस तरह का मन बनाया है तो फिर लोन से पहले किसी अनुभवी से परामर्श जरूर करें. फैस्टिव सीजन में लिए गए लोन की ईएमआई का बोझ कम होता है.

Tags:
COMMENT