‘‘जाओ, भैया को खाना परोस दो.’’

‘‘मैं पढ़ रही हूं, भैया खुद भी तो खाना ले कर खा सकते हैं न.’’

‘‘वह लड़का है. यह लड़कों का काम नहीं है.’’

अपने घर में, आसपड़ोस में या टीवी पर किसी मां द्वारा अपनी बेटी से यह डायलौग बोलते आप ने  सुना ही होगा. ‘लड़कों को ये काम शोभा नहीं देते,’ ‘लड़के यह सब नहीं करते,’ ‘लड़कियों को तो घर का काम आना ही चाहिए, लड़कों को न आए तो क्या,’ इस तरह की बातें हमारी सोसाइटी में आम हैं.

लड़कियां चाहे घर का काम करें या न करें लेकिन लड़के घर के काम नहीं करेंगे, यह तय है. तय क्यों है? अरे भई, यही तो हमारी परंपरा, प्रतिष्ठा और सम्मान है जो लड़कों के घर के काम कर लेने से या उन के कामों में हाथ बंटा देने से छोटी हो जाएगी, खत्म हो जाएगी.

और्गनाइजेशन फौर इकोनौमिक कोऔपरेशन ऐंड डैवलपमैंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, 15 से 64 साल के पुरुष व लड़के एक दिन में घर के कामों में केवल 0.9 घंटा व्यतीत करते हैं, वहीं महिलाएं व लड़कियां 5.9 घंटे घर के काम में बिताती हैं. जिस समय लड़कियां किचन और घर के दूसरे कामों में उलझी रहती हैं उस समय उन के भाई, पापा या पति टीवी के सामने बैठ कर क्रिकेट या फुटबौल का लुत्फ उठा रहे होते हैं.

मांएं बचपन से ही लड़कों को घर के काम से दूर रखती हैं. उन के हिस्से में कुछ काम आते भी हैं तो वे उन के मर्द होने पर ठप्पा लगाने वाले होते हैं, जैसे बाजार से राशन ले कर आना, सिलैंडर लगा कर देना, बिजली के काम करना या कुछ लेनदेन करना. लड़कियों के हिस्से में घिसेपिटे झाड़ूबरतन और कूड़ाकरकट के काम मढ़ दिए जाते हैं, बिना यह सोचे कि लड़कों को इन कामों से दूर रख मांएं उन्हें मुसीबत में डाल रही हैं, वे उन्हें घमंडी भी बना देती हैं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...