शहरों में अखबारों में शादी के इश्तिहार देने, मैरिज ब्यूरो, मैट्रिमोनियल साइट और गैरबिरादरी में शादीब्याह कराने के बहुत से रास्ते हैं. इन के जरीए शादी के लिए दूल्हादुलहन की तलाश की जा सकती है, पर गांवों में अभी भी केवल परिचितों का ही सहारा है.

शहरीकरण का असर बढ़ने से गांव से शहर की तरफ तो लोग जा रहे हैं. गांव के लोगों की गांव में ही शादियां न के बराबर होती हैं. इस वजह से अब गांव में शादी के रिश्ते खोजना मुश्किल होने लगा है.

रामपुर कलां गांव के रहने वाले 70 साल के बुजुर्ग प्रेमपाल कहते हैं, ‘‘समय के साथसाथ गांव की सोच बदली नहीं है, जबकि हालात बदल गए हैं.

‘‘पहले दूरदूर तक नातेरिश्तेदार शादी लायक लड़का या लड़की पर नजर रखते थे. शादी लड़के की पढ़ाईलिखाई से ज्यादा उस के घरपरिवार की हैसियत पर निर्भर करती थी. जिस की खेती अच्छी होती थी उस को ज्यादा अमीर माना जाता था. पर अब नौकरी वाले लड़कों को अहमियत मिलने लगी है.

‘‘शादी के बाद अगर किसी तरह का विवाद होता भी था तो उसे आपस में सुलझा लिया जाता था. अब ऐसे विवाद कोर्ट और पुलिस तक पहुंचने के बाद ही सुलझते हैं. ऐसे में शादी कराने वाले बिचौलिए के रिश्ते खराब होने लगे हैं. वह फालतू के विवाद में नहीं पड़ना चाहता.’’

बिचौलिया वह होता है जो यह बताता है कि शादी के लायक लड़का या लड़की किस घर में है. इस काम को करने वाले लोग हर गांवदेहात में होते थे. नातेरिश्तेदार होने के साथसाथ शादी कराने वाले पंडित तक इस में शामिल होते थे.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT