यह एक ऐसा डाइट प्लान होता है , जिसमें खाने व फास्टिंग का समय तय होता है. जिसका उद्देस्य आपके ग्रोथ हार्मोन लेवल को बढ़ाना होता है. जिससे वजन को कम करने में मदद मिलती है. तो आइए इस संबंध में फरीदाबाद स्थित asian इंस्टिट्यूट की डायटीशियन विभा बाजपेई से जानते हैं.

क्या है इंटरमिटेंट फास्टिंग

लंबे समय तक भूखे रहकर मील स्किप करना इंटरमिटेंट फास्टिंग कहलाता है. इसमें जब भी हम खाना खाते हैं तो उसमें कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा कम व प्रोटीन व फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है, जिससे फैट बर्न होता है, जो वजन कम करने में मदद करता है.

कैसे शुरू करें इंटीरमिटेंट फास्टिंग

अगर आप इंटीरमिटेंट फास्टिंग से लाभ पाना चाहते हैं तो सबसे पहले जानें कि ये किस किस प्रकार के होते हैं और आपका लाइफस्टाइल कैसा है कि उस पर इंटीरमिटेंट फास्टिंग का कौन सा तरीका फिट बैठेगा.

पौपुलर इंटीरमिटेंट फास्टिंग के तरीके

  1. इंटरमिटेंट फास्टिंग 16/8

इस फास्टिंग में आपका सिड्युल ऐसा होता है कि आपको 16 घंटे खाने से परहेज़ रखना होता है.  वहीं आपका ईटिंग टाइम 8 घंटे के भीतर होता है.  इसके लिए आप अपने लाइफस्टाइल के हिसाब से चूज़ करें. जैसे आप डिनर से लेकर लंच टाइम तक फ़ास्ट रख सकते हैं.  जिसका मतलब है कि आपको ब्रेकफास्ट स्किप करना होगा.

2.  इंटरमिटेंट फास्टिंग 5/2

इसमें आपको हफ्ते में 5 दिन जो आपका रूटीन है उसी के हिसाब से खाना है बाकी 2 दिन आपको अपनी डाइट को 500-600  कैलोरी के बीच ही सीमित रखना होगा. ऐसा करना आप के  लिए मुश्किल नहीं होगा. बस ध्यान रखें कि जो भी 2 दिन आप इसके लिए चुनें उसके बीच एक दिन ईटिंग डे जरूर हो.

ये भी पढ़ें- जोड़ों के दर्द को न करें अनदेखा

3.  इंटरमिटेंट फास्टिंग 20/4  warrior डाइट

ये तरीका बाकी तरीकों से थोड़ा अलग है.  इसमें आपको 20 घंटे फ़ास्ट रखना है और 4  घंटे के भीतर खाना है. लेकिन आप अपने 20 घंटे के फ़ास्ट पीरियड में फल और लीन प्रोटीन खा सकते हैं.  ध्यान रखें कि जब आप 4 घंटे के पीरियड में खाए तो उसे खासकर शाम के समय लें  और उसमें भी आप सब्ज़ियाँ , प्रोटीन और फैट ही लें और कार्बोहाइड्रेट्स तभी लें जब आपको तुरंत भूख लगी हुई हो.

4. इंटरमिटेंट फास्टिंग 24 घंटे

इसमें आपको हफ्ते में 1 – 2  बार 24 घंटे का फ़ास्ट रखना होगा. बाकि के दिनों में आप नॉर्मल डाइट ले सकते हैं.

5.  वन मील इन द डे

इस इंटरमिटेंट फास्टिंग में आपको पूरे दिन में एक बार ही खाना खाना होता है.  जैसा की अकसर हर साल रमजान के महीने में अदिकांश लोग करते हैं.

ये भी पढ़ें- सर्वाइकल कैंसर से कैसे बचें?

6. 15 घंटे  का फास्ट

इस इंटरमिटेंट फास्टिंग में आप हाई प्रोटीन लंच तैयार करें,जो आपको वेट लौस प्रोग्राम में हेल्प करें. जब भी खाए इन्हें शामिल करना न भूलें

अपनी डाइट में सलाद , सूप, लेमन वाटर , जलजीरा पानी ,फ्रूट, वेजिटेबल प्यूरी , बेक्ड वेजिटेबल , दाल , स्प्राउट्स , रोस्टेड चने , सोया मिल्क , पनीर , दही , बेसन चीला आदि को शामिल करें.  और कोशिश करें कि जितना हो सके रोटी को अवायड करें.

Tags:
COMMENT