कोरोना वायरस के चलते सब लोग अपने घरों में रहने को मजबूर है. ऐसे में हर समय घर पर रहने के कारण ज्यादा स्नैक्स खाने में बढ़ोतरी होने के साथ ही एक्सरसाइज काफी कम हो गयी है. साथ ही अनियमित स्लीपिंग पैटर्न ने मोटापे को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई है. ऐसा कोई भी ऐज ग्रुप और जेंडर नहीं है जो इससे प्रभावित न हुआ हो. दुनिया भर के गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट ने इस बारे में चिंता व्यक्त की है. केवल कोरोना वायरस से ही नहीं बल्कि अब मोटापे से भी डरने की जरूरत है.

लखनऊ के रीजेंसी सुपर स्पेशलिटी होस्पिटल के m.ch-gI सर्जन, डॉ प्रदीप जोशी बताते हैं कि मोटापे के कारण डायबिटीज , हाई ब्लड प्रेशर, हिर्दय रोग का खतरा कही अधिक बढ़ गया है, क्योंकि ये सीधे तौर पर मोटापे से जो जुड़ा हुआ है. यह कोविद 19 के कारण मोर्टेलिटी रेट में वृद्धि करेगा. यूरोप की कई स्टडीज ने पहले ही मोटापे को कोविद 19  के मोर्टेलिटी  रेट के लिए एक जरूरी फैक्टर माना है. इसलिए यह जरूरी है कि मोटापे को समय रहते कंट्रोल करें और इसे स्वसथ लाइफस्टाइल, खानपान, आदतों और शारीरिक गतिविधि को बढ़ाकर रोकें.

ये भी पढ़ें-मानसून स्पेशल: हेल्दी खाने को टेस्टी बनाने के लिए ट्राय करें ये आसान टिप्स

हैल्थी और फिट रहने के लिए क्या करें 

1- बैलेंस डाइट लें 

एक हैल्थी डाइट पुरानी  बीमारियों और संक्रामक रोग के जोखिम को कम करती है. साबुत अनाज, फल, सब्ज़ियां , दाल , नट्स का भरपूर सेवन करें. तले हुए खानपान , सोफ्ट ड्रिंक्स, प्रोसेड फ़ूड और रिफाइंड फ़ूड खाने से बचें. जरूरी है कि आप शरीर की प्रोटीन, विटामिन्स, मिनरल्स की जरूरतों को हैल्दी डाइट से पूरा करें.  एन्टिओक्सीडैंट्स में उच्च खानेपीने की चीजों को ज्यादा से ज्यादा अपनी डाइट में शामिल करें.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT