श्यामली काफी दिनों से परेशान थी. मेट्रो स्टेशन की सीढ़ियां चढ़ते वक्त तो उसकी आंखों में आंसू ही आ जाते थे. वजह थी उसके टखने, एड़ी और अंगूठे के पास लगातार बना रहने वाला तीव्र दर्द. उसके दोनों पैर के अंगूठे के पास रह-रह कर टीस उठती थी. इधर कुछ दिनों से घुटनों में भी कसाव महसूस होने लगा था. पैरों में सूजन भी रहने लगी थी. सरपट दौड़ने वाली श्यामली के लिए कदम-कदम चलना भी मुश्किल होता जा रहा था. श्यामली को लगता था कि यह फील्ड जौब की वजह से ऐसा हो रहा है. क्लाइंट्स से मिलने के चक्कर में उसे सारा दिन इधर-उधर घूमना पड़ता था और ज्यादातर समय वह पैदल चलती थी. उसने मां को बताया तो मां ने गर्म पानी से सिंकाई का मशवरा दिया. एक हफ्ते से वह हर रात सोने से पहले गर्म पानी में नमक डाल कर पैरों की सिंकाई कर रही थी, मगर फायदा रत्ती भर नहीं पड़ा. दर्द निवारक गोलियां खा-खाकर दिन गुजर रहे थे.

Tags:
COMMENT