शेक्सपियर के नाटक ‘हेमलेट’ से प्रेरित और कश्मीर की पृष्ठभूमि पर बनाई गई फिल्म ‘हैदर’ काफी सीरियस फिल्म है. फिल्म 90 के दशक में कश्मीर घाटी में फैले आतंकवाद के हालात को बयां करती है, साथ ही घाटी में लंबे समय तक फौजों की मौजूदगी, नागरिकों की तलाशी और हर वक्त उन के पास आइडैंटिटी कार्ड होने की अनिवार्यता के बावजूद वहां के हजारों नौजवानों का गायब हो जाना और फिर उन की लाशों का झेलम में मिलना जैसे मुद्दों को भी ईमानदारी से उठाती है. निर्देशक विशाल भारद्वाज इस से पहले शेक्सपियर के ही नाटकों ‘मैकबैथ’ और ‘ओथेलो’ पर क्रमश: ‘मकबूल’ और ‘ओमकारा’ जैसी फिल्में बना चुके हैं. ‘हैदर’ की पृष्ठभूमि एक ज्वलंत क्षेत्र की है जबकि ‘मकबूल’ और ‘ओमकारा’ की पृष्ठभूमि में अपराधजगत था. यह जोखिम का काम था और निर्देशक ने बखूबी उसे निभाया है

‘हैदर’ की विशेषता है शाहिद कपूर का अभिनय. शाहिद को इस फिल्म में अलगअलग अंदाज में देखा जा सकता है. अलीगढ़ यूनिवर्सिटी से पढ़ कर लौटा सीधासादा शाहिद, लाल चौक पर राजनीति की खिल्ली उड़ाता शाहिद, अपने पिता से प्यार करता शाहिद, अपनी मां और चाचा से नफरत करता शाहिद, साथ ही अपनी प्रेमिका अर्शिया को पाने के लिए कुछ भी कर गुजरने वाला शाहिद. शाहिद कपूर ने एकएक सीन में जान डाल दी है. इस के अलावा ‘हैदर’ के अन्य किरदार, चाहे वह हैदर की मां गजाला (तब्बू) का किरदार हो या चाचा खुर्रम (के के मेनन) का या फिर हैदर की प्रेमिका अर्शिया (श्रद्धा कपूर) का, सब के सब बिना बोले ही अपनी मौजूदगी का एहसास करा देते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT