लेखक-सुरेंद्र कुमार, आदित्य व जेएन भाटिया दलहनी

फसलों में मूंग की एक अहम जगह है. इस में तकरीबन 24 फीसदी प्रोटीन के साथसाथ रेशा व लौह तत्त्व भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. मूंग जल्दी पकने वाली किस्मों व ऊंचे तापमान को सहन करने वाली प्रजातियों की उपलब्धता के कारण इस की खेती लाभकारी सिद्ध हो रही है. सघन खेती, अंधाधुंध कीटनाशियों और असंतुलित खादों के इस्तेमाल से जमीनों की उर्वराशक्ति घट रही है और सभी फसलों की उत्पादकता में बेतहाशा गिरावट दर्ज की जा रही है. इन हालात से निबटने के लिए हरी खादों व दलहनी फसलों को अपनाएं व अपनी जमीनों की उर्वराशक्ति को बरकरार रखने और देश की बढ़ती हुई खाद्यान्न समस्याओं से निबटने में अपना भरपूर योगदान दें.

Tags:
COMMENT