तमाम कीड़े किसानों की मेहनत और पूंजी को मिनटों में चट कर जाते हैं.  कीड़ों से बचाव के लिए हर किसान को इन की रोकथाम के तरीके सीखने जरूरी हैं. कृषि वैज्ञानिकों से सलाह ले कर पेड़ों के पत्तों, तनों और जड़ों को कीड़ों से बचाने के उपाय करने चाहिए. कृषि वैज्ञानिक वेदनारायण सिंह बताते हैं कि कीड़ों से बचाव के थोड़े उपाय कर के किसान अपने फलों के पेड़ों और फलों को बड़ी बरबादी से बचा सकते हैं और अपनी मेहनत का बेहतर मुनाफा पा सकते हैं. आम के पेड़ों को मथुआ कीटों से बचाने के लिए फल तोड़ने के बाद उन की पुरानी शाखाओं को सितंबर से दिसंबर के बीच काट देना चाहिए. 60 ग्राम कार्बेरिल या 30 मिलीलीटर डाइमेथोएट या 45 मिलीलीटर इंडोसल्फान या 15 मिलीलीटर डाइक्लोरोफास को 30 लीटर पानी में मिला कर हर पेड़ पर फूल लगने से पहले छिड़काव करने से इन कीटों से नजात पाई जा सकती है. पहले छिड़काव के 15 दिनों बाद दूसरा और मटर के दाने के बराबर फल आने पर तीसरा छिड़काव करना चाहिए.

COMMENT