बस्ती जिले के विकास खंड बहादुरपुर के गांव भेलवल के रहने वाले युवा किसान अरविंद सिंह कुछ सालों पहले खेती में बढ़ती लागत और बढ़ती मजदूरी की वजह से लगातार घाटे में चल रहे थे. उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था कि वे घाटे में चल रही खेती को मुनाफे की तरफ कैसे मोड़ें, इसलिए वे अपनी खेती को?छोड़ कर कोई दूसरा कामधंधा अपनाने की सोच रहे थे. उन्होंने एक दिन अपने मन की बात एक प्रगतिशील किसान को बताई, तो उस किसान ने बताया कि अगर खेती को मुनाफे का सौदा बनाना है, तो इस के लिए उन्हें खेती में उन्नत तकनीक को अपनाते हुए उन्नतशील बीज, खाद, उर्वरक व यंत्रीकरण का सहारा लेना होगा. वे अपने नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि वैज्ञानिकों से खेती को फायदेमंद बनाने के तरीके जान सकते हैं. इस युवा किसान अरविंद ने अपनी खेती की डूबती नैया को पार लगाने के लिए कृषि विज्ञान केंद्र का सहारा लेने का मन बनाया और एक दिन अपने नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों से संपर्क कर के अपनी घाटे से जूझ रही खेती को उबारने की सलाह मांगी.

Tags:
COMMENT