बच्चों के साथ प्रभावशाली बातचीत करने से उन्हें गलत कदम उठाने से न सिर्फ रोका जा सकता है बल्कि उसे सही राह भी दिखाई जा सकती है. कुछ महीने पहले फरीदाबाद में 2 छात्र लोकेश और भव्य घर से पार्क घूमने निकले लेकिन फिर वापस नहीं लौटे. चिंतित मातापिता ने अपहरण के भय से थाने में रिपोर्ट भी दर्ज करवा दी लेकिन कुछ दिनों बाद एक व्यवसायी की सूचना पर दोनों छात्र पुलिस को मिले. दरअसल, हफ्ते भर परिजन व पुलिस की नींद उड़ाने वाले दोनों छात्र मांबाप की डांट से घर छोड़ कर भागे थे.

Tags:
COMMENT