चौथे दिन बुखार टूटा. दीपा को कुछकुछ अच्छा भी लग रहा था. दोपहर को रुचि ने बाहर धूप में बैठा दिया था. ‘‘तेरी पढ़ाई का तो बहुत नुकसान हो रहा है, रुचि.’’

‘‘कुछ नहीं होता मां, मैं सब संभाल लूंगी.’’

‘‘एकसाथ कितना सब जमा हो जाएगा, बड़ी मुश्किल होगी.’’

‘‘कोई मुश्किलवुश्किल नहीं होगी. वैसे भी कालेज कभीकभी गोल करना चाहिए.’’

Tags:
COMMENT