अपनेआप को संयत कर के इंदु आगे बढ़ी. आनंद का नाम बताने पर वाचमैन ने उस के फ्लैट का नंबर इंदु को बता दिया. अभी इंदु कौरिडोर में पहुंची ही थी कि उस ने आनंद को किसी लड़के के साथ खड़ा पाया. इंदु ने सोचा आनंद का कोई मित्र होगा. परंतु अगले ही पल जो हुआ वह उस की कल्पना से परे था. आनंद और वह लड़का अचानक ही एकदूसरे को बेतहाशा वहीं पर चूमने लगे थे. शायद, उन्हें वहां उस समय किसी के होने की उम्मीद नहीं थी. इंदु के मानसपटल पर उस के अपने शयनकक्ष की तसवीर आ गई. आनंद की बेचैनी, उस की कमजोरी, उस का साल में कईकई महीने बाहर रहने का कारण उस की समझ में आ गया था. अपनेआप को संभाल नहीं पाई थी इंदु, लड़खड़ा कर गिर पड़ी. इंदु जब होश में आई, अपनेआप को एक अपरिचित कमरे में पाया. अभी वह अपनेआप को संभाल रही थी कि सामने से वह लड़का आता दिखाई दिया.

ये भी पढ़ें-Short Story:बदलते मापदंड

‘अब कैसी तबीयत है आप की?’

‘ठ...ठ...ठीक हूं, बस, सिर थोड़ा सा भारी है. मेरे पति कहां हैं?’ अभी वह उस लड़के से बात करने के मूड में बिलकुल नहीं थी.

‘सिर तो भारी होगा ही, चोट जो लगी है. अच्छीखासी भीड़ इकट्ठी कर ली थी आप ने तो. वह तो मैं ने बात संभाल ली.’

‘अच्छा, क्या बताया आप ने लोगों को?’

‘यही कि आप मेरी कजिन हैं. अब यह तो बता नहीं सकता कि आप मेरी सौतन हैं. हा...हा...हा...’ उस की बेहयाई पर इंदु ठगी सी रह गई, परंतु अपने पर काबू रख कर उस ने जवाब दिया, ‘‘जी, बिलकुल, सच बता देना चाहिए था आप को...’’ ‘अच्छा, सच बता देना चाहिए था,’ उसी वक्त चीखते हुए आनंद कमरे में दाखिल हुआ. कितना बेशर्म तथा संगदिल था वह इंसान. अभी भी उस की नजरों में लेशमात्र भी पछतावा नहीं था.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT