कोविड सेक्ट ने लाखों घरों की जमापूंजी समाप्त कर दी है. जो एक बार बिमार पड़ गया उस की जमापूंजी का बड़ा हिस्सा डाक्टरों, हस्पतालों को गया समझो. डेढ़ करोड़ लोग जो देश में बिमार पड़ चुके हैं उन के घरवालों की बड़ी संपत्ति कोविड के इलाज में जा चुकी है. हालांकि सरकारें बड़ीबड़ी बातें करती रही हैं पर सच यही है कि लोगों को जमापूंजी लुटानी पड़ी है.

यह भरपाई होगी यह भी अब दिख नहीं रही. आंकड़ेबाजी के बावजूद लग रहा है कि कोराना वायरस के बारबार के आक्रमण सरकार को तो खोखला नहीं कर रहे पर आम घरों को पूरी तरह खोखला कर देंगे. सरकार के आंकड़े तो कहते हैं कि वे अधिक कर वसूल जमा कर रहे हैं पर वह संभव है कि पैसा अब कुछ हाथों में ज्यादा जमा हो रहा हो. बाजार ठप्प होने से नहीं लगता कि एक आम भारतीय को कहीं से राहत मिल रही हो.

ये भी पढ़ें- आदिवासियों के हक

असल में घर परिवार को हमेशा ही खासी बचत डाक्टरों और वकीलों के लिए रखनी चाहिए. यह ऐसा फंड होना चाहिए जो बेटी की शादी या बच्चों की पढ़ाई पर भी खर्च न हो. लोग अपनी बचत शानदार गाड़ी, बड़ा मकान, बढिय़ा मोबाइल, एक लंबी हौलीडे लेेने से नहीं कतराते. यह गलत है. बचत का एक बड़ा हिस्सा मेडिकल या कानूनी आपदाओं के लिए रखा जाना चाहिए. आज कम में जी लें पर इन 2 मदों पर जब जरूरत पड़ेगी कोई आगे नहीं आएगा.

जो लोग बचत के आधार पर मकान खरीद लेते हैं और उस के लिए कर्ज ले लेते हैं वे अक्सर बेघरबार होते दिखते हैं. कर्ज पर ली गई गाडिय़ां लौटानी पड़ती हैं. इन के पास मैडिकल या लीगल आपदाओं के लिए पैसा नहीं बचता.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT