हिंदी को अकसर गंवारों व गरीबों की भाषा मान कर दुतकारा जाता है. इस के दोषी खुद हिंदी वाले भी हैं क्योंकि 2021 में भी वे आमतौर पर सूरदास, कबीरदास या रामचंद्र शुक्ल से चिपके रहते है जबकि आधुनिक चुनौतियों को दरी के नीचे छिपा देते हैं. इस के विपरीत, हिंदी में युवाओं की सोच कम नहीं है. इस बाबत दिल्ली विश्वविद्यालय के 2021 के प्रवेश के आंकड़े कुछ रोचक तथ्य प्रस्तुत करते हैं.

कैंपस के कोने में भव्य बिल्डिंग में शिक्षा का प्रसार कर रहे रामजस कालेज को इंग्लिश और इकोनौमिक्स की पहली कटऔफ लिस्ट के तहत 99.75 प्रतिशत  अंक चाहिए थे तो हिंदी के लिए 94 प्रतिशत अंक चाहिए थे. और हिंदी विषय में इतने प्रतिशत अंक लाना आसान नहीं है.

हिंदी पिछड़ी जातियों की भाषा रह गई है, यह भ्रांति गलत है. इस कालेज में जनरल कैटेगरी में हिंदी के लिए 94 प्रतिशत अंक जरूरी थे. ओबीसी को मात्र 2 प्रतिशत की छूट मिल पाई और शिड्यूल कास्ट को 5 प्रतिशत की.

किरोड़ीमल कालेज में तीसरी कटऔफ लिस्ट के तहत जनरल कैटेगरी में हिंदी में प्रवेश 93.5 प्रतिशत अंक वालों को मिला, ओबीसी कैटेगरी में 92.5 प्रतिशत वालों और शिड्यूल कास्ट कैटेगरी में 90 प्रतिशत वालों को. वहीं, हिंदू कालेज, जो देश के अग्रणी 2-3 कालेजों में है, हिंदी औनर्स में जनरल कैटेगरी के तहत 95.50 प्रतिशत वालों, ओबीसी कैटेगरी के 94 प्रतिशत वालों और शिड्यूल कैटेगरी के 83 प्रतिशत अंक वालों को प्रवेश मिला.

इस से यह साफ होता है कि अपने प्रति दुर्भावना के बावजूद हिंदी भाषा वाले छात्र काफी मेहनत कर अच्छे अंक ला रहे हैं और उन का भविष्य इस माहौल में भी सुरक्षित है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...