केंद्र सरकार के 2020 के बजट में आम लोगों के लिए ऐसा कुछ नहीं है जिस की चर्चा की जा सके. बजट भाषण लंबा जरूर था पर जनता की लंबी जरूरतों के सामने इस में जरा भी कहीं ऐसा नहीं लगा कि सरकार को देश को घेरती महंगाई, बेरोजगारी, मंदी और हताश जनता की चिंता है. बजट में इस के दर्शन नहीं हुए.

Tags:
COMMENT