शुगर यानि डायबिटीज की बीमारी से त्रस्त लोग कुछ सालों बाद यह कहने मजबूर हो ही जाते हैं कि डायबिटीज ठीक होने बाली बीमारी नहीं, बल्कि शुगर मेनेज करने का सलीका है. जाहिर है उनका इशारा परहेज की तरफ होता है. इस बीमारी में लोग शक्कर तो शक्कर, आलू और चावल जैसी ज्यादा कार्बोहाइट्रेट वाली चीजों से भी परहेज करने लगते हैं. लेकिन गेहूं जैसे रोजमरराई अनाज से मुंह मोड पाना उनके लिए मुमकिन नहीं हो पाता. इस बीमारी के बढ़ने पर एक मुकाम ऐसा भी आता है कि गेहूं से भी शुगर बढ़ने लगती है, इसलिए हाट बाजारों में मरीज मोटे अनाज वाला आटा ढूंढते नजर आते हैं, जिसमे कार्बोहाइट्रेट कम होता है.

COMMENT