होली पर्व का नाम सुनते ही मन रंगरंगीली उमंगों से भर उठता है. होली रंगों का त्योहार है. इसे एकदूसरे पर गुलाल लगा कर मनाया जाता है परंतु आजकल गुलाल के साथसाथ लोग रंगों का भी प्रयोग करते हैं. अकसर घरों में एकदूसरे को रंग लगाते समय या रंग से बचने के प्रयास में रंग यहांवहां गिर जाता है. प्राकृतिक रंगों के दागधब्बे जहां आसानी से निकल जाते हैं, वहीं आजकल बाजार में उपलब्ध रासायनिक रंगों के दागधब्बों को साफ करना बड़ी चुनौती होती है.

COMMENT