प्रिंस का दुर्भाग्य यह था कि उस ने एक ऐसा दृश्य देख लिया था, जो उसे नहीं देखना चाहिए था. यही उस की हत्या का कारण बना. वह सतरूपा और अंकित के आंतरिक संबंधों की भेंट चढ़ गया, लेकिन...
पुष्पा देवी सुबह 10 बजे मंदिर से घर आईं. उन्होंने पूजा का थाल चौकी पर रखा फिर चारों ओर नजर दौड़ाई. जब प्रिंस दिखाई नहीं पड़ा तो उस ने आवाज लगाई, ‘‘प्रिंस कहां हो तुम? आ कर प्रसाद ले लो.’’
8 वर्षीय प्रिंस पुष्पा का एकलौता बेटा था. उसे घर से गायब देख वह घबरा गई. घर से बाहर जा कर वह उसे गली में खोजने लगी. जब प्रिंस गली में कहीं नहीं दिखा, तब पुष्पा ने उस की खोजबीन आसपड़ोस के घरों में की, पर उस का पता नहीं चला.

पुष्पा के घर से चंद घर दूर उस का देवर राकेश रहता था. उस ने सोचा कहीं वह चाचा के घर न चला गया हो. वह तुरंत देवर के घर पहुंची. राकेश घर पर ही था. पुष्पा ने उस से पूछा, ‘‘देवरजी, प्रिंस घर से गायब है. जब मैं मंदिर गई थी, तब घर के बाहर खेल रहा था. वापस आई तो नहीं था. मैं ने पासपड़ोस के घरों में खोजबीन की, पर उस का पता नहीं चला. कहीं वह तुम्हारे घर तो नही है.’’‘‘भाभी, प्रिंस कुछ देर पहले आया था. मैं ने उसे नाश्ता भी कराया था. उस के बाद वह चला गया था. भाभी, आप घबराइए नहीं. यहीं कहीं होगा. चलो, मैं भी तुम्हारे साथ चलता हूं.’’

ये भी पढ़ें- Crime Story: प्यार की राह में

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT