मेरा छोटा बेटा 5वीं व बड़ा बेटा 10वीं में था. मैं उस समय खटीमा में रहती थी. बच्चों के स्कूल जाने के बाद मेरे पास काफी खाली समय होता. इसलिए कुछ नया करने की इच्छा होती थी. मेरी पड़ोसिन का घर के सामने स्कूल था. मैं ने उस से कहा कि मैं आप के स्कूल में कम से कम 2 पीरियड अंगरेजी पढ़ा सकती हूं. आप की जो इच्छा हो, दे देना. इस बात से वे बहुत खुश हुईं, उन्होंने मुझे पढ़ाने के लिए बुला लिया.
मैं बहुत मन से पढ़ाने लगी. बच्चे भी बहुत रुचि से पढ़ने लगे. वे बच्चे मेरे बच्चों से मेरी तारीफ करते कि मैडम बहुत अच्छा पढ़ाती हैं. ये सुन कर मुझे बहुत अच्छा लगता.
महीना पूरा होने पर मेरी पड़ोसिन ने मुझे 2001 रुपए दिए. ये मेरी पहली कमाई थी, जिसे पा कर मैं फूली न समाई.
आशा गुप्ता, जयपुर (राज.)

एक बार की बात है कि मैं एक चौराहे पर फंस गई. मुझे सड़क पार करनी थी. लोग कार व आटोरिकशा के बीचबीच में से निकल कर जा रहे थे पर मैं हिम्मत नहीं कर पाई. दोनों तरफ से गाडि़यां आजा रही थीं. करीब 15-20 मिनट हो गए कि अचानक एक रिकशा वाला मेरे सामने रुका. रिकशा वाला बोला, ‘‘अम्मा, बैठो, मैं सड़क पार करा देता हूं.’’
मैं बैठ गई, सड़क के पार उतर कर मैं ने कुछ पैसे उसे देने चाहे पर उस ने यह कह कर कि अम्मा, मैं ने पैसों के लिए आप को नहीं बिठाया, बहुत देर से देख रहा था कि आप सड़क पार करना चाह रही थीं पर कर नहीं पा रही थीं, पैसे नहीं लिए.
मैं ने उसे धन्यवाद दिया. और सोचा, छोटा काम करने वाले भी बड़ेबड़े काम कर जाते हैं जो जीवनभर याद रह जाते हैं.
आशा भटनागर, मुंबई (महा.)

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...