नस्लीय सद्भाव

75 वर्षीय लाल थनहवला, जो कि मिजोरम के 5 बार से मुख्यमंत्री हैं, ने अपना नहीं, बल्कि पूरे पूर्वोत्तर भारत का दर्द बयां कर ही डाला कि देश में जहांजहां भी वे गए, वहां उन्हें नस्लीय दुर्व्यवहार भोगना पड़ा.

75 वर्षीय लाल थनहवला, जो कि मिजोरम के 5 बार से मुख्यमंत्री हैं, ने अपना नहीं, बल्कि पूरे पूर्वोत्तर भारत का दर्द बयां कर ही डाला कि देश में जहांजहां भी वे गए, वहां उन्हें नस्लीय दुर्व्यवहार भोगना पड़ा.

बात आम है पर विश्वगुरु बन जाने का सपना देखने वालों को सबक है कि देश के हर कोने में धर्म और जातिवाद के अलावा नस्लीय भेदभाव भी फैला है. ऐसे में क्या कुछ खास प्रजाति के लोग ही भारतीय, जिन्हें अब हिंदू कहना बेहतर होगा, कहलाने के हकदार हैं. पूर्वोत्तर के लोगों का देशभर में तरहतरह के संबोधनों से मजाक बनाया जाता है. उन्हें विदेशी और उन में भी चीनी समझा जाता है. इस गड़बड़झाले की बड़ी वजह, जो ईसाई मूल के लाल थनहवला शायद ही समझ पाएं, यह है कि इस देश में भारतीय उन्हें ही समझा जाता है जिन के नैननक्श और रंग हिंदू देवताओं से मिलतेजुलते हों.      

COMMENT

नस्ली भेदभाव

भारत में विदेशियों का रहना मुश्किल होता जा रहा है. चाहे पश्चिमी देशों के गोरे हों या अफ्रीका के काले, हमारा रंग भेद इतना ज्यादा गहरा गया है कि किसी को नहीं बख्शा जा रहा.

May 8, 2017

भारत में विदेशियों का रहना मुश्किल होता जा रहा है. चाहे पश्चिमी देशों के गोरे हों या अफ्रीका के काले, हमारा रंग भेद इतना ज्यादा गहरा गया है कि किसी को नहीं बख्शा जा रहा. अकेली पर्यटन पर आई गोरी युवतियों को तो यहां गाइड, टैक्सी ड्राइवर, होटलों के कर्मचारी हरदम बिस्तर पर बिछने को तैयार मानते हैं और उन के नानुकर करने पर बलात्कार कर मार तक डालते हैं. कितनों का ही गैंगरेप किया जाता है.

COMMENT
'सरिता' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now