आम आदमी पार्टी यानी आप के मुखिया अरविंद केजरीवाल को पंजाब और गोआ के नतीजे देख फिर से एक अदद गुरु की सख्त जरूरत महसूस हो रही होगी. उन्हें दिल्ली की गद्दी कभी अन्ना हजारे के आंदोलन के चलते मिली थी. अब अन्ना आएदिन नरेंद्र मोदी की तारीफ करने लगे हैं यानी गलत नहीं कहा जाता कि काबिल गुरु को भी काबिल चेले की जरूरत होती है.

COMMENT