मैं नीलगिरी शहर में अपने परिवार से दूर रह कर नौकरी करता हूं. मेरी पत्नी 2 बच्चों व मेरे मातापिता के साथ लखनऊ में रहती है. मैं साल में 2 बार होली और दीवाली के मौके पर लखनऊ जाता हूं.
पिछली दीवाली को जब मैं लखनऊ गया तो धनतेरस के अवसर पर मेरी पत्नी ने वाश्ंिग मशीन लेने की इच्छा जाहिर की. मैं वाश्ंिग मशीन घर ले आया.
मेरी पत्नी ने वाशिंग मशीन में कपड़े डाल कर, उस के ऊपर ढक्कन लगा दिया और मशीन चालू कर दी. कुछ समय बाद ढक्कन खोल कर देखा तो कपड़े एकदम साफ हो गए. कपड़ों को ड्रायर में डाल दिया. कुछ समय बाद कपड़े सूख भी गए.
इन सब कार्यों को मेरा 6 वर्षीय बेटा शशांक बड़े ध्यान से देख रहा था. जब पत्नी ने उस से स्नान करने को कहा तो वह कहने लगा कि मम्मी, मुझे भी वाश्ंिग मशीन के अंदर डाल दो, ऊपर से ढक्कन लगा कर मशीन चालू कर दो. मैं भी साफ हो जाऊंगा. उस की बात सुन कर हम सब हंसने लगे.
विवेक कुमार यादव, नीलगिरी (तमिलनाडु)
 
एक रोज रात को हम दूरदर्शन पर  प्रसारित समाचार देख रहे थे. उस समाचार बुलेटिन में यह बारबार दोहराया जा रहा था : ‘भारी वर्षा से दिल्ली और एनसीआर का तापमान गिरा.’
हमारा नन्हा दिव्यांश कहने लगा, ‘यह दूरदर्शन वाले कभी भी पूरी खबर नहीं देते. वे यह तो बता रहे हैं कि तापमान गिरा है परंतु यह नहीं बता रहे कि इस के गिरने से उन्हें कितनी चोटें आईं या उसे किस अस्पताल में दाखिल कराया गया.’
बच्चे के मुख से यह सुन हम हंस पड़े.
ओमदत्त चावला, पश्चिम विहार (न.दि.)
 
कुछ समय पहले मैं अपने बेटे प्रतीक को ले कर मायके जमालपुर (बिहार) पहुंची. प्रतीक को गोद में लिए मैं ने मां के चरणस्पर्श किए. 
बेटा 3 वर्ष का था. उसे गोद में देखते ही अम्मा बिफर कर बोलीं, अरे, यह क्या? मेरा नाती इतना सूख क्यों गया है? खानेवाने का ध्यान नहीं रखती?
मां मुझे फटकार लगाने के मूड में थीं कि प्रतीक बीच में ही तपाक से बोल उठा, ‘‘नहींनहीं नानी, ऐसी बात नहीं है. मम्मी तो हमें ठूंसठूंस कर जबरदस्ती खिलाती रहती हैं. दरअसल, अभी मैं गाड़ी से आया न, उसी से सूख गया हूं. मम्मा जब मुझ को नहलाएंगी तो मैं गीला हो जाऊंगा.’’
उस की बात सुन कर घर के सभी सदस्य ठहाका मार कर हंस दिए.
डा. श्वेता सिन्हा, धनबाद (झारखंड) 

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...