आज नौकरी के अवसरों की कमी है और निजी क्षेत्रों में नौकरी को लेकर हमेशा एक अनिश्चितता बनी रहती है. इसलिए पिछले कुछ वर्षों में स्टार्टअप का चलन तेजी से बढ़ा है. स्वरोजगार के लिए नएनए आइडियाज उभर कर आएं हैं. एक तो इन में पूंजी कम लगती है और दूसरा कम जोखिम में सफल होने की संभावना अधिक होती है.महिलाएं भी बिज़नेस में बढ़चढ़ कर अपना हाथ आजमा रही है.

Tags:
COMMENT