बैंक का सेविंग अकाउंट आम लोगों को सीधे तौर पर बैंकिंग सिस्टम से जोड़ने का काम करता है. सेविंग अकाउंट लोगों में सेविंग की आदत विकसित करने का काम करता है. यह सबसे लोकप्रिय वित्तीय उत्पादों में से एक माना जाता है. इसमें आप जब चाहें पैसों की निकासी कर सकते हैं और अकाउंट में जमा राशि पर औसतन 3.5 से 6 फीसद तक का ब्याज भी मिल जाता है.

हालांकि सेविंग अकाउंट खुलवाने से पहले आप थोड़ी सावधानी बरतेंगे तो आपको थोड़ा ज्यादा फायदा होगा. अगर आप देश के किसी भी बैंक में सेविंग अकाउंट खुलवाने की योजना बना रहे हैं तो यह खबर आपके काम की है. हम अपनी इस खबर के माध्यम से आपको जानकारी दे रहे हैं कि आपको सेविंग अकाउंट खुलवाने से पहले किन बातों का ख्याल रखना चाहिए.

क्या शुल्क वसूलते हैं बैंक ?

ये सबसे अहम पहलू होता है. बैंक अपनी ओर से दी जाने वाली सेवाओं जैसे कि औनलाइन पेमेंट ट्रासफर, चेक बुक की सुविधा, कैश डिपाजिट, डेबिट एवं क्रेडिट कार्ड, फिजिकल अकाउंट स्टेटमेंट, पासबुक जारी करवाना और लाकर जैसी सुविधाओं के लिए अगल-अलग शुल्क वसूलते हैं. ऐसे में अगर आपको मामूली जरूरतों को पूरा करने के लिए ही सेविंग अकाउंट खुलवाना है जैसे कि सिर्फ पैसे जमा रखने के लिए और कभी कभी चेक के जरिए भुगतान के लिए तो रेगुलर सेविंग अकाउंट सबसे बेहतर विकल्प होगा. वहीं अगर आप बैंक के अन्य उत्पादों की सेवाओं का भी लाभ लेना चाहते हैं तो आप प्रीमियम एवं हाई एंड सेविंग अकाउंट का भी चयन कर सकते हैं. अगर आप इन चीजों की परख कर अकाउंट खुलवाते हैं तो आपका फायदा होगा.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...