कुछ समय पहले तक भारत एक ‘स्कूटरलैंड’ था. यहां की सड़कों पर विभिन्न कंपनियों के स्कूटर फर्राटे से दौड़ते थे लेकिन समय ऐसा आया कि स्कूटर सड़कों से गायब हो गए. यहां तक कि बजाज कंपनी ने भी स्कूटर बनाने बंद कर दिए. लेकिन फिर समय बदला, लोगों की पसंद बदली और भारतीय सड़कों पर एक्टिवा स्कूटर्स की बहार आई. भारतीय दुपहिया वाहन चालकों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए होंडा मोटरसाइकिल ऐंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) ने हाल ही में नया औटोमैटिक स्कूटर एक्टिवा 125 बाजार में उतारा है.

नए एक्टिवा 125 के फीचर्स और डिजाइन का जवाब नहीं. नए एक्टिवा 125 में सिंगल सिलेंडर, फोर स्ट्रोक, एयरकूल्ड 124.9 सीसी का इंजन, 8.6 बीएचपी का पावर, 10.12 एनएम का टौर्क, वी मैटिक ट्रांसमिशन है. नए एक्टिवा में 12 इंच के एलौय व्हील इसे प्रीमियम लुक देते हैं. 23 डिगरी की क्लाइंबिंग क्षमता के चलते नए एक्टिवा के साथ ऊंचाई पर चढ़ना आसान हो गया है.

वे ग्राहक जो औटोमैटिक स्कूटर में अपनी राइड अपग्रेड करना चाहते हैं, यह एक्टिवा 125 उन्हें बेहतर माइलेज, कंफर्ट और आधुनिक विशेषताओं का शानदार कौंबिनेशन प्रदान करता है. पेटैंट होंडा ईको टैक्नोलौजी परफौर्मेंस से समझौता किए बिना सफलतापूर्वक माइलेज को बढ़ाती है. इस की एचईटी दहन में सुधार कर के कार्य करती है जिस से घर्षण कम होता है और इंजन का ट्रांसमिशन बढ़ता है.

बेहतरीन स्टाइल के साथ एक्टिवा 125 का मजबूत फ्रंट पैनल, खूबसूरत क्रोम बार, प्रभावशाली हैडलाइट, गतिमान इंस्ट्रूमैंट क्लस्टर और स्टाइलिश इंडिकेटर, एक्स शेप की टेल लाइट इस को और आकर्षक बनाती है और उम्मीद है यह ग्राहकों को भी लुभाएगी. स्वीश, वेस्पा और रोडियो टूव्हीलर के मुकाबले एक्टिवा की घरघराहट काफी कम है. 15 सीसी और 0.6 बीएचपी की बढ़ोत्तरी एक्टिवा में कुछ ज्यादा नहीं है पर अतिरिक्त 0.14 केजीएम एक्टिवा की पहाड़ी इलाकों की राइड को जरूर बेहतर और स्मूथ बनाती है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...