सस्ते किराए वाली एयरलाइंसों के आने से सरकारी ‘उड़ान’ स्कीम जैसी योजनाओं के चलते हवाई चप्पल वालों को भी हवाई सफर का सपना काफी समय से दिखाया जा रहा है. पर क्या यह अब मुमिकन है? एक तरफ बदहाल ‘महाराजा’ यानी एयर इंडिया सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद बिक नहीं रहा है, उधर ठसाठस भरे विमानों के बावजूद अच्छी मानी जाने वाली निजी एयरलाइंसों के बढ़ते घाटे के कारण, पसीने छूटने लगे हैं.

COMMENT