नाट्य भूषण से सम्मानित और 14 सामाजिक नाटकों के लेखक व निर्देशक सचिन गुप्ता कई लघु फिल्में भी लिख चुके हैं. 2014 में बतौर लेखक व निर्देशक उनकी पहली फीचर फिल्म ‘‘पराठे वाली गली’’ प्रदर्शित हुई थी. कुछ दिन पहले प्रदर्शित लघु फिल्म ‘‘पिहू’’ ने भी काफी लोकप्रियता हासिल की थी. अब वह ‘‘पाखी’’ लेकर आए रहे हैं. दस अगस्त को प्रदर्शित होने वाली फिल्म ‘‘पाखी’’ चाइल्ड ट्रैफीकिंग पर आधारित है. फिल्म की कहानी के केंद्र में 10 साल की लड़की पिहू की सत्य घटना है, जिसकी शादी एक 60 वर्ष के बुढ़े के साथ होती है और फिर उसे देह व्यापार के लिए बेच दिया जाता है.

Tags:
COMMENT