यह कौमिक थ्रिलर फिल्म कंप्यूटर हैकर्स के कारनामे दिखाती है. हैकिंग पर बनी यह पहली फिल्म है. पिछले कुछ सालों से यह तकनीक हर घर तक पहुंच गई है. हर घर में, हर व्यक्ति के पास मोबाइल फोन, टैबलेट, कंप्यूटर जैसे गैजेट्स हैं. अधिकांश ट्रांजैक्शंस औनलाइन होने लगे हैं. ऐसे में हैकिंग के मामले भी काफी बढ़ चले हैं. यह फिल्म दिखाती है कि हैकिंग की दुनिया कितनी बड़ी है. दुनिया के बड़ेबड़े हैकर्स किस तरह किसी भी बैंक अकाउंट से कईकई सौ करोड़ रुपए उड़ा ले जाते हैं.

फिल्म की विशेषता इस की कहानी है. कहानी भले ही जलेबी की तरह घुमावदार है लेकिन आज के युवाओं के आलसीपन को दर्शाती है. आज का युवा बैठेबिठाए सबकुछ पा लेना चाहता है. उस के पास एक से बढ़ कर एक गैजेट्स मौजूद हैं.

हर वक्त वह पैनड्राइव जेब में डाले घूमताफिरता है. वह डैस्ट्रक्टिव माइंड का हो चला है. कभी भी, कहीं भी वायरस छोड़ कर किसी के भी सिस्टम को करप्ट करने में उसे मजा आता है.

‘मिकी वायरस’ एक ऐसे ही युवक मिकी (मनीष पाल) की कहानी है, जो हर वक्त खाली घूमता रहता है, खुराफातें करता रहता है. उस की जेब में पैनड्राइव रहती है जिस में वायरस घुसे रहते हैं. वह हैकिंग ऐक्सपर्ट है. उस के कुछ दोस्त भी उसी जैसे हैं. चटनी (पूजा गुप्ता), फ्लौपी (राघव कक्कड़) और पैंचो (विकेश कुमार) के साथसाथ एक गुरु प्रोफैसर (नीतेश पांडे) उस के दोस्त हैं.

एक दिन पुलिस को 2 अनजान विदेशियों की लाशें मिलती हैं. पता लगता है कि ये दोनों हैकर्स थे और भारत आए थे. मामले की तहकीकात एसीपी सिद्धांत (मनीष चौधरी) और इंस्पैक्टर भल्ला (वरुण वडोला) करते हैं. उन्हें किसी भ्रम गैंग की तलाश है. वे मिकी को ढूंढ़ निकालते हैं और उस की मदद से हैकर्स का पता लगाने की कोशिश करते हैं. इसी दौरान मिकी की मुलाकात कामायनी (एली अवराम) से होती है. एक दिन कामायनी गलती से एक बड़ी रकम किसी दूसरे के अकाउंट में ट्रांसफर कर बैठती है. मिकी उस की मदद कर पैसा वापस सही अकाउंट में ले आता है. यहीं से मिकी मुसीबतों में फंस जाता है. कामायनी की हत्या हो जाती है. सबूत मिकी की ओर इशारा करते हैं. लेकिन मिकी मामले की तह तक पहुंच जाता है और उसे पता चल जाता है कि एक बड़ी रकम को हैक करने के पीछे कौनकौन लगे हुए हैं. यहां तक कि एसीपी सिद्धांत भी उस रकम को हासिल करना चाहता है. वह सभी हैकर्स के साथसाथ एसीपी को भी गिरफ्तार कराता है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...