‘भाग मिल्खा भाग’ भारत के जानेमाने धावक मिल्खा सिंह की जीवनी पर बनी फिल्म है. मिल्खा सिंह के बारे में आज तक ज्यादा कहासुना नहीं गया है. मिल्खा सिंह 1960 में रोम ओलिंपिक में भारत की तरफ से दौड़ा था, मगर हार गया था. वह क्यों हारा था? 1956 में मेलबोर्न में हुई क्वालिफाइंग दौड़ में भी उसे हार का मुंह क्यों देखना पड़ा था, इन सब बातों पर रोशनी डालती इस फिल्म में मिल्खा सिंह के 13 वर्षों की दौड़ के जीवन को दिखाया गया है.

फिल्म का निर्देशन राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने किया है.  निर्देशक और उस की टीम ने मेहनत की है. फिल्म भले ही मिल्खा सिंह की रियल लाइफ पर बनी हो पर निर्देशक ने फिल्म को फनी बनाने के लिए कुछ प्रसंग ऐसे भी जोड़े हैं जो फिल्म को रोचक बनाते हैं. उड़ते जहाज में मिल्खा सिंह का सीट से खड़े हो कर शोर मचाना कि जहाज काफी ऊंचाई पर उड़ रहा है, पायलट जरूर इसे ठोकेगा. इस के अलावा मिल्खा सिंह का देसी घी से भरे 2-2 किलो के डब्बों को पी जाना जैसे प्रसंग ऐसे ही हैं. मेलबोर्न में क्वालिफाइंग दौड़ के लिए मिल्खा सिंह का एक पब में जा कर बीयर पी कर अंगरेज युवती के साथ नाचना और रात में अनजाने में ही सही, उस के साथ सैक्स करना जैसी बातें गले नहीं उतरतीं.

इस बायोग्राफिकल फिल्म में मिल्खा सिंह का किरदार ऐक्टर फरहान अख्तर ने निभाया है. मिल्खा सिंह जैसी बौडी बनाने के लिए उसे 6 महीने तक कड़ी मेहनत और अभ्यास करना पड़ा. मिल्खा सिंह की भूमिका के लिए निर्देशक राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने पहले अक्षय कुमार को एप्रोच किया था. अक्षय को लगा था, वह इस भूमिका के लिए फिट नहीं है. इसलिए उस ने मना कर दिया था. ‘भाग मिल्खा भाग’ के लिए फरहान अख्तर ने न सिर्फ मिल्खा सिंह जैसी बौडी बनाई है वरन अपने सिक्स पैक भी दिखाए हैं, जो हर वक्त फड़कते दिखते हैं. अधिकांश समय उसे बनियान पहने ही टे्रनिंग लेते दिखाया गया है. इस फिल्म में मिल्खा सिंह दौड़ा तो बहुत है परंतु फिनिश लाइन पर पहुंचतेपहुंचते उसे 3 घंटे से ज्यादा का समय लग जाता है यानी फिल्म 3 घंटे से ज्यादा लंबी है. फिल्म की लंबाई कम से कम आधा घंटा कम होती तो फिल्म में जान आ सकती थी. आर्मी कैंप, भारतपाक बंटवारे और प्रेमप्रसंग के दृश्यों को आसानी से छोटा किया जा सकता था.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...