इस फिल्म को देखने के बाद यह तो पक्का हो गया कि आज के युवा शादी के मामले में कन्फ्यूज्ड रहते हैं. अपने लिए वे फेसबुक, इंटरनैट और मैट्रिमोनियल साइटों में जीवनसाथी की तलाश तो करते हैं लेकिन सही फैसला नहीं ले पाते.

‘अमित साहनी की लिस्ट’ लाइफ पार्टनर की तलाश कर रहे एक ऐसे युवक पर बनी फिल्म है जिस ने एक लंबी लिस्ट अपने लैपटौप में सेव कर रखी है कि उस की होने वाली पत्नी में क्याक्या खासीयतें होनी चाहिए. उस के प्यार का अपना एक अलग मैजरमैंट है. इसी लिस्ट से मेल न खाने से कई लड़कियां उसे छोड़ कर चली जाती हैं और वह हर वक्त कन्फ्यूज्ड रहता है.

फिल्म की कहानी अमित साहनी (वीरदास) के मुंह से कहलवाई गई है. वह एक इन्वैस्टमैंट बैंकर है. उसे एक परफैक्ट लड़की की तलाश है, जिस में वे सारी खूबियां हों जो उस की बनाई लिस्ट में हैं. एक दिन अमित की मुलाकात देविका (आनंदिता नायर) से होती है. उस से मिल कर अमित को लगता है कि देविका में वे सब खूबियां हैं जो उस की लिस्ट में शामिल हैं. लेकिन कुछ दिनों बाद देविका को अमित में वे खूबियां दिखाई नहीं देतीं जो उस की खुद की लिस्ट में थीं. वह अमित से बे्रकअप कर लेती है. फिल्म के क्लाइमैक्स का पहले से ही पता चल जाता है. निर्देशक अजय भुयान ने इस हलकीफुलकी फिल्म में बीचबीच में हंसी की फुलझडि़यां छोड़ी हैं. फिल्म का गीतसंगीत पक्ष कमजोर है. छायांकन ठीक है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...