पता नहीं फिल्मकारों को कब समझ में आएगा कि काठ की हांडी बार बार आग पर नहीं चढ़ती. देओल परिवार की 2011 की सफल हास्य फिल्म ‘‘यमला पगला दीवाना’’ का सिक्वल 2013 में ‘यमला पगला दीवाना 2’ के नाम से आया, तब इसे दर्शकों ने पसंद नहीं किया था. मगर पूरे पांच साल बाद उसका एक और सिक्वल ‘‘यमला पगला दीवना फिर से’’ लेकर आए हैं, जिसे देखकर दर्शक यही कहता है- कहां फंसाओ नाथ.

COMMENT