सरिता विशेष

70 और 80 के दशक में एक्ट्रेस पद्मिनी कोल्हापुरे ने अपने करियर के दौरान कई हिट फिल्मों में काम किया. पद्मिनी बचपन से ही गाना गाती थी और अपना करियर एक सिंगर के रूप में बनाना चाहती थीं. वो अपनी बहन के साथ कोरस में गाना गाया करती थीं.

उन्होंने यादों की बारात फिल्म में भी गाया था. ऋषि कपूर और पद्मिनी कोल्हापुरे की ब्लाकबस्टर फिल्म ‘प्रेम रोग’ तो आपको याद ही होगी. इस फिल्म से पद्मिनी काफी पौपुलर हो गईं थीं. इस फिल्म को महान एक्टर-डायरेक्टर राज कपूर ने डायरेक्ट किया था.

इस फिल्म के लिए उन्हें निर्देशन के लिए बेस्ट डायरेक्टर फिल्म फेयर अवौर्ड भी मिला. इसके साथ ही यह फिल्म बौक्स औफिस पर कई रिकौर्ड तोड़ने में कामयाब रही. लेकिन यहां हम बात कर रहे हैं एक्ट्रेस पद्मिनी कोल्हापुरे की. दरअसल, पद्मिनी कोल्हापुरे ने अपने करियर के शुरुआती दिनों में कई एसे रोल किए जिससे लोगों ने उन्हें एडल्ट एक्ट्रेस कहना शुरू कर दिया था.

1980 में रिलीज हुई फिल्म ‘गहराई’ में पद्मिनी ने एक न्यूड सीन देकर सनसनी मचा दी थी. इतना ही नहीं इसी साल आई फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ में भी पद्मिनी ने एक लंबा रेप सीन दिया. जिसके बाद लोगों ने पद्मिनी कोल्हापुरे को एडल्ट एक्ट्रेस का तमगा दे दिया. ये दोनों ही फिल्में बौक्स औफिस पर हिट साबित हुई. इन फिल्मों की सफलता को देखते हुए पद्मिनी कोल्हापुरे काफी खुश हुईं.

लेकिन कुछ दिनों बाद उन्हें एहसास हुआ कि इस तरह की फिल्में कर ज्यादा समय तक इंडस्ट्री में कामयाब नहीं रह पाएंगी. पद्मिनी को लेकर लोगों के मन में धारणा बदल रही थी. जब इस बात का अहसास पद्मिनी को हुआ तो वो इस तरह के सीन करने से बचने लगी. हालांकि डायरेक्टर्स लगातार इस तरह की फिल्में लेकर उनके पास आते रहें. लेकिन वो हर फिल्म को ठुकराती चली गईं.